आशुतोष महाराज को समाधि से उठाने उनकी शिष्या ने ली समाधी, 10 साल में दूसरी रहस्यमय समाधि से सवालों के घेरे में आश्रम

आशुतोष महाराज के बारे में ताजा खबर यह है कि उनकी एक शिष्या, साध्वी आशुतोषांबरी, ने हाल ही में समाधि ली है। उन्होंने यह कदम अपने गुरु, आशुतोष महाराज, की आत्मा को उनके भौतिक शरीर में वापस लाने के लिए उठाया है।

आशुतोष महाराज का शव पिछले 10 सालों से एक फ्रीजर में रखा गया है, उनके शिष्यों का विश्वास है कि वह समाधि से वापस आएंगे।

आशुतोष महाराज का जन्म 1946 में बिहार के मधुबनी में महेश कुमार झा के रूप में हुआ था। वे जर्मनी में पढ़ाई कर रहे थे, लेकिन बीच में ही उन्होंने पढ़ाई छोड़ दी और आध्यात्म की ओर मुड़ गए। उन्होंने हिमालय और वाराणसी में आध्यात्मिक शिक्षा प्राप्त की और बाद में दिव्य ज्योति जागृति संस्थान की स्थापना की, जिसकी संपत्ति 1,000 करोड़ रुपये से अधिक है।

28 जनवरी 2014 को आशुतोष महाराज को सीने में दर्द की शिकायत हुई और उन्हें लुधियाना के सद्गुरु प्रताप अपोलो अस्पताल ले जाया गया, जहाँ उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। उनके शिष्यों ने उनके शव को फ्रीजर में रखा, यह विश्वास करते हुए कि वह फिर से लौटेंगे। उनके द्वारा स्थापित संस्थान के देश में करीब 350 आश्रम हैं, और उनका मानना था कि वह अपने शरीर में फिर से लौटेंगे ।

भारत के प्रसिद्ध सेलिब्रिटी 19 जुलाई को जन्मदिन जूही चावला का 55 वां जन्म दिवस टीना डाबी को गर्ल्स स्टूडेंट ने कहा हैप्पी बर्थ डे प्रियंका पंडित- बायोग्राफी