द्रौपदी मुर्मू बायोग्राफी

Share on:

This post has already been read 51 times!

द्रौपदी मुर्मू का जीवन परिचय(Draupadi Murmu Biography in Hindi): भारत में हर एक लोकप्रिय इंसान की एक कहानी अवश्य होती है। हाल ही में लोकप्रिय हुई द्रौपदी मुर्मू जो भारत की वर्तमान राष्ट्रपति है। भारत के राष्ट्रपति पद पर चयनित होने के बाद द्रोपदी मुर्मू की लोकप्रियता काफी अधिक हो गई है। द्रोपदी मुर्मू जो भारत के आदिवासी समुदाय से संबंध रखने वाली एक सामान्य महिला है।

जिनका जन्म उड़ीसा में हुआ है वर्तमान में राजनीतिज्ञ के तौर पर भारतीय जनता पार्टी की ओर से राष्ट्रपति पद पर उम्मीदवार खड़ी हुई थी और राष्ट्रपति पद पर द्रौपदी मुर्मू को चयनित कर के भारत का राष्ट्रपति भी बनाया गया है। आज के आर्टिकल में हम आपको द्रौपदी मुर्मू का जीवन परिचय (Draupadi Murmu Biography in Hindi) के बारे में डिटेल में जानकारी देने का प्रयास करेंगे।

द्रौपदी मुर्मू का जीवन परिचय : Draupadi Murmu Biography in Hindi

Draupadi Murmu Biography in Hindi
  • पूरा नाम: द्रौपदी मुर्मू
  • पिताजी का नाम:बिरांची नारायण टुडू
  • पेशा:    राजनीतिज्ञ
  • पार्टी:भारतीय जनता पार्टी
  • पति:   श्याम चरण मुर्मू
  • जन्म तिथि:   20 जून 1958
  • आयु:64 वर्ष
  • जन्म स्थान: मयूरभंज, उड़ीसा, भारत

द्रौपदी मुर्मू का प्रारंभिक जीवन

वर्तमान समय में द्रोपदी मुर्मू जो भारत की राष्ट्रपति है। उनके प्रारंभिक जीवन के बारे में बात की जाए तो इनका जीवन साल 1958 से शुरू हुआ द्रौपदी मुर्मू ने 20 जून 1958 को एक आदिवासी परिवार में जन्म लिया। भारत के उड़ीसा राज्य में जन्मी द्रोपदी मुर्मू वर्तमान समय में भारत के राष्ट्रपति बनने तक का सफर तय किया है। इस प्रकार आदिवासी समुदाय से ताल्लुक रखने वाली एक महिला जो राष्ट्रपति पद पर पहुंचने के बाद सोशल मीडिया पर और इंटरनेट पर काफी चर्चा में हो रही है। कई लोग द्रोपदी मुर्मू के भारत के राष्ट्रपति होने पर गर्व कर रहे हैं तो कई लोग विपक्षी पार्टियों से संबंध रखने वाले द्रोपदी मुर्मू का मजाक उड़ा रहे हैं।

द्रोपदी मुर्मू की शिक्षा

Draupadi Murmu Biography in Hindi

द्रोपदी मुर्मू की शुरुआत की प्रारंभिक परीक्षा पूरी करने के बाद इन्होंने भूलेश्वर से अपनी ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी की। उन्होंने रामा देवी महिला कॉलेज में एडमिशन लेकर ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी की आदिवासी समुदाय से संबंध रखने वाली द्रोपदी मुर्मू ने अपने पढ़ाई को नजरअंदाज करने की बजाय पढ़ाई में रुचि दिखाते हुए अपने गांव को छोड़कर भुवनेश्वर गई और वहां पर रामा देवी महिला कॉलेज में एडमिशन लेकर ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी की है।

ग्रेजुएशन की पढ़ाई जैसे ही पूरी हुई तो द्रोपदी मुर्मू उड़ीसा के गवर्नमेंट बिजली डिपार्टमेंट में निकली भर्ती में अपना आवेदन लगाकर जूनियर असिस्टेंट पद पर परीक्षा देने के बारे में सोचा और द्रौपदी मुर्मू ने बिजली विभाग के जूनियर असिस्टेंट पद पर नौकरी भी प्राप्त कर ली।

साल 1979 से लेकर 1982 के बीच उन्होंने बिजली विभाग में अपनी नौकरी को ध्यान में रखते हुए कार्य किया। उसके बाद 1994 रायरंगपुर में स्थित इंटीग्रल एजुकेशन सेंटर में एक शिक्षक के तौर पर काम करना शुरू किया। यह काम उन्होंने 3 साल तक किया और 1997 में इस काम को छोड़कर अपने करियर को और अधिक आगे बढ़ाने के बारे में फैसला लिया।

द्रौपदी मुर्मू का का पारिवारिक जीवन

द्रोपदी मुर्मू के परिवार सदस्यों के बारे में बात की जाए तो द्रोपदी मुर्मू के पिता का नाम बिचारी नारायण गुड्डू है और द्रौपदी मुरमू संताली आदिवासी फैमिली से संबंध रखने वाली एक आदिवासी समूह की सशक्त महिला हैं। जिन्होंने अपने जीवन में कई और संभु प्रयासों को पार करते हुए आज राष्ट्रपति बनने तक का सफर तय किया है। झारखंड के राज्य में 5 साल के कार्यकाल के दौरान द्रोपदी मुर्मू राज्यपाल के तौर पर भी चयनित हुई है। झारखंड राज्य की पहली महिला राज्यपाल द्रोपदी मुर्मू रही है ग्रुप टीम उनके पति का नाम श्याम चरण मुर्म है।

द्रौपदी मुर्मू का  राजनीतिक कैरियर

द्रोपदी मुर्मू के राजनीतिक सफर की बात की जाए, तो द्रोपति मुर्मू ने 1997 में टीचर की नौकरी छोड़कर साल 2000 से लेकर अपने राजनीतिक सफर को अच्छे से आगे बढ़ाने के बारे में सोचा साल 2000 से 2004 तक इन्होंने ट्रांसपोर्ट और वाणिज्य डिपार्टमेंट उड़ीसा सरकार के राज्यमंत्री और स्वतंत्र प्रभार के तौर पर संभाला था उसकी बात 2002 से लेकर 2004 तक इन्होंने पशुपालन और मत्स्य पालन के डिपार्टमेंट की जिम्मेदारी भी अपने कंधों पर उठाई थी। साल 2009 तक भारतीय जनता पार्टी अनुसूचित जाति मोर्चा के तौर पर द्रोपदी मुर्मू ने राष्ट्रीय कार्यकारिणी मेंबर में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हुए भारतीय जनता पार्टी के अनुसूचित जाति का मोर्चा पूरा अपने कंधों पर संभाल रखा था।

भारतीय जनता पार्टी के एसटी मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष के तौर पर द्रोपदी मुर्मू ने साल 2006 से लेकर 2009 तक कार्य किया एसटी मोर्चा के साथ-साथ भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारिणी मेंबर में उन्होंने 2013 से लेकर 2015 तक अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हुए। अपनी लोकप्रियता को बनाने में और अपने राजनीतिक करियर को आगे बढ़ाने में हर संभव प्रयास किया।

भारतीय जनता पार्टी की तरफ से झारखंड राज्यपाल के पद पर साल 2015 से लेकर 2021 तक कार्य करके आदिवासी समाज और पूरे देश के लिए एक गर्व की बात हासिल की और उसके बाद साल 2021 के पश्चात 2022 में भारत के राष्ट्रपति पद पर चयनित किया गया है। भारत के राष्ट्रपति पद पर साल 2022 में द्रौपदी मुर्मू को चयनित किया गया है, जो अभी तक राष्ट्रपति पद पर काम कर रही है।

द्रौपदी मुर्मू का राष्ट्रपति उम्मीदवार घोषित होना

Draupadi Murmu Biography in Hindi

राष्ट्रपति चुनाव जब शुरू हुए उससे पहले ही भारत में काफी गरमा गरमी फैली हुई थी। राष्ट्रपति के तौर पर भारतीय जनता पार्टी की ओर से कौन सा दावेदार खड़ा होने वाला है इसके बारे में पहले कोई अधिक जानकारी नहीं थी। लेकिन जैसे ही 4 खंड की महिला राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू का नाम सामने आया तो लाखों लोगों ने भारतीय जनता पार्टी की प्रशंसा करते हुए कहा कि आदिवासी समाज की महिला को आगे लाना गर्व की बात है। लेकिन दूसरी तरफ कई लोगों ने द्रोपदी मुर्मू पर उंगली भी उठाई लेकिन द्रोपदी मुर्मू भारत कि राष्ट्रपति बनने में कामयाब हो गई और वर्तमान समय में द्रोपदी मुंह में राष्ट्रपति का पदभार संभाल रही है।

द्रोपदी मुर्मू के पुरस्कार

एक सामान्य महिला के राष्ट्रपति के पद तक पहुंचने वाली महिला को जीवन में एक पुरस्कार तो अवश्य मिलता ही है। क्योंकि अपने संघर्षों के दम पर जो महिला आदिवासी समुदाय से संबंध रखती है, फिर भी राष्ट्रपति बनने का सफर हासिल कर लेती है, तो कहीं ना कहीं अपने जीवन में उन्होंने कई ऐसे कार्य किए हैं। जो प्रशंसनीय है और ऐसे में उनको पुरस्कार देना भी बनता है। द्रोपदी मुर्मू को नीलकंठ पुरस्कार सर्वश्रेष्ठ विधायक के रुप में प्राप्त हुआ। जो साल 2007 में दिया गया उन्होंने उड़ीसा विधानसभा में हुए चुनाव जीतने के बाद उड़ीसा में विधायक के तौर पर बेहतरीन कार्य की जिसकी वजह से इन्हें नीलकंठ पुरस्कार उड़ीसा सरकार के द्वारा दिया गया और प्रशंसनीय कार्य के लिए सम्मानित किया गया।

द्रोपदी मुर्मू के सोशल मीडिया अकाउंट

द्रौपदी मुर्मू के सोशल मीडिया अकाउंट से जुड़ने के लिए नीचे दिए थे। सोशल मीडिया अकाउंट के लिंक पर क्लिक कर सकते हैं। इन सोशल मीडिया के माध्यम से द्रौपदी मुर्मू के सोशल मीडिया से कनेक्ट होकर उनकी सोशल मीडिया एक्टिविटी के बारे में भी जानकारी हासिल कर सकते हैं।

  1. द्रोपदी मुर्म ट्विटर : क्लिक करे
  2. द्रोपदी मुर्म इंस्टाग्राम : क्लिक करे
  3. द्रोपदी मुर्म फेसबुक : क्लिक करे
निष्कर्ष

भारत की वर्तमान महिला राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने अपने जीवन में सामान्य आदिवासी समुदाय से भारत के राष्ट्रपति बनने का सफर जिस प्रकार से तय किया है। उनकी जीवनी पढ़ना सभी लोगों के लिए एक प्रेरणा देने से कम नहीं है। आज के आर्टिकल में हमने आपको द्रौपदी मुर्मू का जीवन परिचय(Draupadi Murmu Biography in Hindi) के बारे में डिटेल में जानकारी दी है। हमें उम्मीद है, कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको पसंद आई होगी। यदि किसी व्यक्ति को हमारे इस आर्टिकल से जुड़ा हुआ कोई भी सवाल है, तो वह हमें कमेंट के माध्यम से बता सकता है।