नीरज चोपड़ा बायोग्राफी

Share on:

नीरज चोपड़ा बायोग्राफी(Neeraj Chopra Biography In Hindi): भारत के एथलीट नीरज चोपड़ा के बारे में हम सभी जानते हैं। नीरज चोपड़ा ने भाला फेंक ओलंपिक में गोल्ड मेडल हासिल किया था। नीरज चोपड़ा भारत के 1 एथलीट है। जिन्होंने भारत से ओलंपिक में भाग लिया था और भाला फेंक में भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए 90 पॉइंट 54 मीटर का पाला फेंका था। आज के आर्टिकल में हम आपको नीरज चोपड़ा बायोग्राफी (Neeraj Chopra Biography In Hindi) के बारे में डिटेल में जानकारी देने का प्रयास करेंगे।

नीरज चोपड़ा की बायोग्राफी: Neeraj Chopra Biography In Hindi

Neeraj Chopra Biography In Hindi
  • नाम: नीरज चोपड़ा
  • निक नेम: निज्जू
  • जन्म: 24 दिसंबर,1997
  • उम्र: 24 साल
  • जन्म स्थान: खंडरा, पानीपत, हरियाणा
  • गृहनगर: पानीपत, हरियाणा
  • शिक्षा: BA में स्नातक
  • कॉलेज: डीएवी कॉलेज, चंडीगढ़

नीरज चोपड़ा का शुरुवाती जीवन

निधि चोपड़ा का जन्म पानीपत जिले के खंडेला गांव में 24 दिसंबर 1997 को हुआ। नीरज चोपड़ा के पिता का नाम सतीश कुमार और मां का नाम सरोज देवी है। नीरज चोपड़ा के चार भाई बहन है और सबसे बड़े ही चोपड़ा है इनकी दो बहने हैं और तीन भाई है।

नीरज चोपड़ा के पिता खेड़ा गांव में खेती बाड़ी का काम करते हैं और अपना घर चलाते हैं इनकी मां ग्रहण है। लेकिन इन्होंने भाला फेंक प्रतियोगिताओं में भाग लेते हुए खुद का इस्थान राष्ट्रीय स्तर तक पहुंचा दिया है। जैसे-जैसे इनको सफलताएं मिलती रही। इन्होंने अपने कदम आगे बढ़ाने में कोई कसर नहीं छोड़ी और पिछले ओलंपिक में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इन्होंने भाला फेंक प्रतियोगिता के तहत गोल्ड मेडल हासिल किया और भारत का नाम रोशन किया था।

नीरज चोपड़ा की शिक्षा

Neeraj Chopra Biography In Hindi

निधि चोपड़ा ने अपनी पढ़ाई के साथ साथ ही भाला फेंकने का पूरा प्रयास किया था नीरज जी चोपड़ा ने नौवीं कक्षा तक पढ़ाई की और उसके साथ अपने भाला फेंकने के थ्रो पर अभ्यास करने के लिए देश विदेशों में आना जाना शुरू कर दिया था। इसकी वजह से इनकी अवधि की पढ़ाई प्राइवेट और ओपन शिक्षा के माध्यम से पूरी हुई थी और उन्होंने कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के माध्यम से बीए की डिग्री हासिल की।

नीरज चोपड़ा के परिवार की जानकारी

नीरज चोपड़ा के परिवार सदस्यों के बारे में बात की जाए तो नीरज चोपड़ा के परिवार के सदस्यों के नाम नीचे कुछ इस प्रकार से दिए गए हैं:

  • पिता का नाम: सतीश कुमार चोपड़ा
  • माता का नाम: सरोज देवी
  • बहन का नाम: संगीता और सरिता
  • भाई का नाम: ज्ञात नहीं है

नीरज चोपड़ा का कैरियर

Neeraj Chopra Biography In Hindi

नीरज चोपड़ा के करियर की शुरुआत छोटी उम्र से ही हो गई थी। नीरज चोपड़ा जबकि 11 साल के थे। तब मिलते शहीद का वजन बहुत ही ज्यादा यानी कि 80 किलो था इतनी कम उम्र में बच्चे का वजन कितना होना काफी गलत इशारा करता है। लेकिन इन्होंने अपने वजन को कम करने के लिए पानीपत के स्टेडियम में ट्रेनिंग लेना शुरू कर दी और वहीं से इन्होंने एथलीट्स जेवलिन थ्रो का खेल करने का अभियान शुरू किया।

उसके बाद नीरज चोपड़ा ने राष्ट्रीय स्तर पर भाला फेंकने और राष्ट्रीय स्तर पर ही नहीं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भाला फेंक प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल हासिल करने का एक प्रण ले लिया था और इस संकल्प तो इन्होंने पूरा भी कर लिया।

नीरज चोपड़ा ने भाला फेंक प्रतियोगिता के दौरान बेहतरीन प्रयास करने के लिए इन्होंने भारतीय खेल प्राधिकरण प्रशिक्षण पंचकूला हरियाणा में अपना अभियान शुरू किया और वहां पर सुविधा की कमी होने की वजह से उन्होंने तालुका देवी लाल स्टेडियम में भी अपना प्रशिक्षण जारी रखा। इस प्रकार से अपने करियर की शुरुआत करके नीरज चोपड़ा ने वर्तमान समय में अपनी लोकप्रियता को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहुंचा दिया है।

नीरज चोपड़ा के रिकॉर्ड

नीरज चोपड़ा ने साल 2012 में लखनऊ में आयोजित हुई नेशनल जूनियर चैंपियनशिप में भाग लेते हुए ऐतिहासिक जीत हासिल की और वहां पर अंडर 16 में भाग लेकर इन्होंने 68.46 मीटर का भाला फेंककर रिकॉर्ड बनाते हुए स्वर्ण पदक हासिल किया था।

  • साल 2013 में नेशनल यूथ चैंपियनशिप में उन्होंने भाग लिया था और वहां पर इनको आईएएएफ यूथ चैंपियन में जगह बनाने का मौका मिला
  • साल 2015 में इंटर यूनिवर्सिटी चैंपियन के दौरान इन्होंने 81.04 मीटर का बाला फेंका था और यह एक नया रिकार्ड इन्होंने हासिल किया।
  • साल 2016 में 86.48 मीटर का बाला जूनियर विश्व चैंपियन में सेट कर इन्होंने नया रिकॉर्ड बनाया और स्वर्ण पदक हासिल किया।
  • साल 2018 में दोहा डायमंड लीग के तोहरा 8743 मीटर का फ्रॉक पहन कर एक फिर नया रिकॉर्ड बनाया था।
  • 27 अगस्त 2018 को नीरज चोपड़ा ने 88.06 मीटर का बाला फेंका और अपने पिछले रिकॉर्ड से बेहतर नया रिकॉर्ड बनाते हुए स्वर्ण पदक हासिल किया था।
  • साल 2021 में जापान के टोक्यो शहर में आयोजित हुए ओलंपिक के दौरान 86.65 मीटर दूरी का भाला फेंककर नीरज चोपड़ा ने एक नया रिकॉर्ड खड़ा किया।
  • उसके बाद दूसरे चरण में 87.58 मीटर का भाला फेंक कर स्वर्ण पदक हासिल किया।

नीरज चोपड़ा के पुरस्कार

  • सालमैडल व पुरस्कार पदक: 2012
  • राष्ट्रीय जूनियर चैंपियनशिपस्वर्ण पदक: 2013
  • राष्ट्रीय युवा चैंपियनशिपरजत पदक: 2016
  • तीसरा विश्व जूनियर अवार्डस्वर्ण पदक : 2016
  • एशियाई जूनियर चैंपियनशिपरजत पदक : 2016
  • दक्षिण एशियाई खेलस्वर्ण पदक : 2017
  • एशियाई चैंपियनशिपस्वर्ण पदक : 2018
  • एशियाई खेल चैंपियनशिप स्वर्ण गौरवस्वर्ण पदक: 2018
  • गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलस्वर्ण पदक: 2018
  • गोल्ड मेडल टोक्यो ओलंपिक: 2021

नीरज चोपड़ा आर्मी ऑफिसर

नीरज चोपड़ा ने अपने होबी के साथ-साथ सरकारी नौकरी हासिल करने का भी एक अनुभव किया है। नीरज चोपड़ा जैवलिन थ्रो एथलीट बनने से पहले इंडियन आर्मी के एक सुविधा के रूप में काम करते थे। उन्होंने इंडियन आर्मी के जूनियर कमिश्नर ऑफिसर पद पर नौकरी हासिल की थी। जब उनकी उम्र 19 साल की थी और इतनी कम उम्र में इन्होंने आर्मी के उच्च पद को हासिल करके कई जिम्मेदारियों को संभाला था।

नीरज चोपड़ा की कुल संपत्ति

नीरज चोपड़ा के वर्तमान समय की संपत्ति के बारे में बात की जाए तो नीरज चोपड़ा भाला फेंक प्रतियोगिता के माध्यम से अपने करियर को सफल बना कर वर्तमान समय में अच्छी संपत्ति के मालिक भी बन चुके हैं। स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया के द्वारा समर्थन और भाग्य की मदद से उन्होंने अपने करियर को सफल बनाया है। इनकी वर्तमान समय की कुल संपत्ति 5 मिलियन डॉलर के आसपास बताई जा रही है। यानी कि भारतीय रुपए में इनकी संपत्ति ₹36 करोड़ के आसपास है।

निष्कर्ष

देशभर में स्वर्ण पदक हासिल करने वाले व्यक्ति की लोकप्रियता अलग ही होती है। नीरज चोपड़ा जिन्होंने भारत में राष्ट्रीय स्तर पर और टोक्यो में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्वर्ण पदक हासिल किया है। इतना ही नहीं उन्होंने इंडियन आर्मी में ऑफिसर के पद पर भी नौकरी की है।

वर्तमान समय में नीरज चोपड़ा भारतीय एथलीट के रूप में जाने जाते हैं ।आज के आर्टिकल में हमने आपको लीड जी चोपड़ा बायोग्राफी के (Neeraj Chopra Biography In Hindi) बारे में डिटेल में जानकारी दी है। हमें उम्मीद है, कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको पसंद आई होगी।